Intraday Trading Tips in Hindi | इंट्रा-डे ट्रेडिंग के लिये बेहतरिन टिप्स (2024)

Intraday Trading Tips in Hindi | इंट्रा-डे ट्रेडिंग के लिये बेहतरिन टिप्स

Intraday Trading Tips in Hindi : दोस्तों अगर आप भी एक ट्रेडर है तब हम आपको बताना चाहेंगे की आप शेयर मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग (Intraday Trading) करके, बहुत ही कम समय में अधिक पैसा कमा सकते है। और यहां कुछ ऐसे भी लोग है जो जल्दी कमाई करने के चक्कर में डायरेक्ट इंट्राडे ट्रेडिंग करने लग जाते है। 

हालाकि, इससे उन्हें कभी-कभी भारी नुकसान का सामना करना पड़ता है। इसलिए ऐसे लोग इंट्राडे ट्रेडिंग को गैंबलिंग बोलने लग जाते है। लेकिन बता दें, आप Intraday Trading के मध्यम से अच्छी कमाई कर सकते है। 

बस इसके लिए आपको इंट्राडे ट्रेडिंग के कुछ अच्छे नियम या टिप्स को फॉलो करना है और इसके साथ प्रॉपर Discipline भी रखना है। तभी जाकर आप इससे कम समय में अच्छा पैसा कमा सकते है। 

अगर आप इंट्राडे ट्रेडिंग करने के बारे में सोच रहे है या करते है, तो अगर आपके मन में यही सवाल होंगे की, इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय किन बातों का ख्याल रखें, कोनसी चीजो को सीखा जाये, Intraday Trading क्या है आदि। ये सभी सवालों के जवाब जानने के लिए इस पोस्ट को अंतिम तक पढ़े। 

क्योंकि आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से Intraday Trading Tips in Hindi के बारे में विस्तार से बताने वाले है और इसके साथ Intraday Trading Tips को जानने के बाद आप अपनी इंट्राडे ट्रेडिंग को और भी बेहतर बना सकते है। 

तो चलिए दोस्तों जल्दी से जान लेते है, Intraday Trading Tips in Hindi

Telegram Group👉 Click Here
WhatsApp Group👉 Click Here
Google News 👉 Click Here

इस पोस्ट में आप जानेंगे -

इंट्रा-डे ट्रेडिंग क्या होता है (What is intra-day trading in Hindi)

इंट्रा-डे का अर्थ- एक ही दिन के अंदर हुई ट्रेडिंग। अगर आप शेयर मार्केट में किसी शेयर को आज ही खरीदते है और आज ही बेच देते है (चाहे लाभ हो या हानि) तब इसे इंट्रा-डे ट्रेडिंग कहा जाता है। 

आपको इंट्रा-डे ट्रेडिंग में कम पैसे में ज्यादा शेयर खरीदने को मिलते है, यानी इसमें ज्यादा मुनाफा होता है। लेकिन इसके विपरित इसमें बहुत रिश्क भी है। नुकसान हुआ या फायदा यह आपको दिन के आखिरी में मालूम हो जाता है।  

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए शेयर बाजार 9:15 पर खुलता है यानी आप इसे दोपहर के समय 3:10 बजे तक कर सकते है। इस बीच आप कितना भी शेयर खरीद या बेच सकते है। 

इंट्राडे ट्रेडिंग के फायदे (Advantages of Intraday Trading in Hindi)

  • सबसे पहला फायदा यह की, आप इसमें काम समय में ज्यादा पैसा कमा सकते है।
  • इसमें आपको किसी भी कम्पनी की Fundamental Analysis करने की जरूरत नही है आपको केवल अभी के हाल के मुताबिक कम्पनी के पैटर्न को समझते हुए ट्रेडिंग करना है।
  • इंट्राडे में अगर आपके पास थोड़े पैसे भी है तब भी से आप मार्जिन (Margin) पर ज्यादा रुपए की ट्रेडिंग कर सकते है। 
  • इसमें आपको लाभ कमाने के लिए लंबे साम तक रुकना नही पढ़ता, आप कम समय में ही अपना Profit Gain कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : क्या Trading करना चाहिए?

इंट्राडे ट्रेडिंग के नुकसान (Disadvantages of Intraday Trading in Hindi)

  • Intraday में लाभ के लिए आपको बाजार पर लागतार ध्यान केंद्रित करना होगा जिससे आपका बहुत ज्यादा समय खर्च होगा। 
  • ज्यादातर दूसरो के कहने पार Intraday ट्रेडिंग करने से नुकसान हो जाता है। 
  • इसमें High Margin तो उपलब्ध है लेकिन उतना ही High Rishk भी है। 

इंट्रा-डे ट्रेडिंग करने के टिप्स (Intraday Trading Tips in Hindi)

अब चलिए दोस्तो इंट्रा-डे ट्रेडिंग करने के टिप्स (Intraday Trading Tips in Hindi) के बारे में विस्तार से जान लेते है। आज हम आपको इंट्रा डे ट्रेडिंग करने के 20 सर्वश्रेष्ठ तरीकों के बारे में बताने वाले है।

1. शुरुआत में अधिक उम्मीद न रखें

अगर आप खराब और भावनात्मक रूप से आवेशित निर्णय लेने से बचना चाहते है तब तो आपको यथार्थवादी अपेक्षाएँ रखना ही चाहिए। इंट्रा डे ट्रेडिंग को आप एक कौशल सेट के रूप में ले सकते है लेकिन इसमें आपको महारत हासिल करने में काफी समय लग सकता है। 

इसलिए अपने उम्मीदों (Expectations) को कम हो रखें। आज आप जिसे भी शेयर मार्केट में शीर्ष में देखते आए है या देखते है, उन्होंने ने एक लबे समय तक खुद को पहले प्रशिक्षित किया है और यथार्थवादी अपेक्षाएँ रखी, जिसके बाद ही बड़े निवेशक बन पाए। 

आपको सबसे पहले अपने लिए एक डेमो खाता ओपन कर लेना चाहिए और अपने असली धन के साथ इंट्राडे व्यापार से कम से कम 9 महीने पहले एक सुसंगत ट्रैक रिकॉर्ड तैयार करना चाहिए। 

यह भी पढ़ें : निफ्टी में कौन-कौन सी कंपनी है?

2. खूद का एक ट्रेडिंग योजना बनाएं

दोस्तों शेयर मार्केट में सफल होने ने लिए यह बेहद जरूरी है की आप खुद का एक ट्रेडिंग योजना बनाएं। और इस योजना के मुताबिक ही इंट्राडे ट्रेडिंग करें। इसमें आपको बस यही करना है की मार्केट के बंद होने के बाद या फिर रात को अगले दिन होने वाली ट्रेडिंग के लिए योजना तैयार कर लेना है।

और इसके अनुसार अगले दिन ट्रेडिंग करना है। आपको एक दिन पहले ही तय कर लेना है कि आपको अगले दिन कौन–कौन से स्टॉक में कहाँ, कब और कैसे ट्रेड करना है। अगर आप ऐसा करते है तो आप दूसरे दिन मार्केट में आप बिना किसी तनाव के ट्रेडिंग कर सकते है। 

ज्यादातर ट्रेडर यही गलती करते है की वे अच्छी तरह से तो दूसरे दिन ट्रेडिंग करने का प्लान बना लेते है। लेकिन दूसरे दिन ट्रेडिंग के समय उसे अपना नही पाते या भूल जाते है और इसके बिना ही ट्रेडिंग करने लग जाते है, जिससे उनका हमेशा लॉस ही होता है। 

लेकिन दोस्तों आपको यह गलती हरकीज नही करनी है आपको अपनी ट्रेडिंग इंट्रा-डे ट्रेडिंग के लिये बेहतरिन टिप्स के लिए योजना बना लेना है और जैसे पूरे अनुशासन से फॉलो करना है।

इसके आलावा आप ट्रेडिंग योजना बनाते समय यह भी तय कर सकते है की कौनसे स्टॉक को किस समय और किस कीमत पर खरीदना है और इसके साथ स्टॉप लॉस और टारगेट क्या रखना है। अगर आप स्टॉप लॉस और टारगेट निर्धारित कर लेते है तो उसके बाद आपके लिए ट्रेडिंग करना और भी ज्यादा आसान हो सकता है। 

3. Mindset विकसित करे

इंट्राडे ट्रेडिंग करना होगया या इसके अतिरिक्त और कुछ भी, सारा काम मानसिकता (Mindset) का होता है। अगर आपका मानसिकता अच्छा है तो आप आसानी से ट्रेडिंग से पैसा कमा सकते है। 

भले ही आपके पास शेयर बाजार का सम्पूर्ण ज्ञान या हर तरह की ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी हो लेकिन अगर आपका Mindset ही गलत है तब आप कभी भी मोटा पैसा ट्रेडिग से नही बना सकते है। इसलिए आपको इंट्रा डे ट्रेडिंग करने से पहले अपना एक अच्छा मानसिकता तैयार कर लेनी है।

मानसिकता तभी बढ़ती है जब कोई अनुशासन और नियमो के अनुसार शुरुआत में छोटी कैपिटल के साथ ट्रेडिंग की शुरुआत करते है। जैसे–जैसे आपका Mindset विकसित होता जायेगा, वैसे ही आप अपने इनकम को बढ़ा सकते है और मोटा पैसा कमा सकते है। 

यह भी पढ़ें : Option Trading Strategies PDF Hindi में कैसे Download करें

4. चुनिंदा स्टेटर्जी पर काम करे

शेयर बाजार में ये छोटी-छोटी बाते ही आपको हीरो से जीरो बना देती है। यहां बहुत सारे लोग नए नए मार्केट में कदम रखते है और किसी भी स्टॅटर्जी को सुनते या देखते हैं और उसी पर ट्रेंड करना चालू कर देते है। 

ऐसा करने से थोड़े दिनों के लिए तो अच्छा प्रॉफिट होता है लेकिन एक दिन ऐसा आता है की यह काम नहीं करता, तब उसे छोड़कर दुसरे स्टेटर्जी को ढुढने लग जाते हैंं। और वह भी किसी दिन नहीं चलती तो और कोई तिसरी स्टॅटर्जी, ऐसे में हर किसी का लाॅस होना तो तय हैं।

क्योंकी कोई भी कितनी भी अच्छी स्टॅटर्जी हो वह 100 प्रतिशत कभी नहीं वर्क करेगी। इसलिए आपको हमेशा अपने चुनिंदा स्टेटर्जी पर ही काम करना चाहिए। भले ही इसके आपका शुरुआत में नुकसान हो। लेकिन महीने के आखिरी में हा साल के आखिरी में एक वक्त ऐसा आएगा जब आप हमेहसा फायदे में रहेंगे।

5. स्टाॅपलाॅस लगाने कि आदत डालें

Intraday Trading Tips in Hindi का यह सबसे बेहतरीन टिप्स है जिसको आपको जरूर फॉलो करना चाहिए। भले ही आपको कितना भी Confidence हो की ये शेयर प्राइस आपके डायरेक्शन में जायेगी लेकिन आपको स्टॉप लॉस लगाना नही भूलना है। 

क्योंकि कई बार एक खबर से या उसे स्टॉक के अधिक सेलर हो जाने से एक ही 

केंडल में प्राइस गलत डायरेक्शन में (यानी आपके अनुमान से गलत) जाने लगती है और इससे आपको ज्यादा नुकसान हो जाता है। 

इसलिए स्टॉप लॉस लगाने का आदत आपको जरूर से जरूर डालना चाहिए। टारगेट प्राइस तय करना ज्यादा इंपोर्टेंट नही है लेकिन एक ट्रेंड में आप ज्यादा से ज्यादा कितना नुकसान सह सकते है उतना ही स्टॉप लॉस आपको लगाना चाहिए, और इसके हिसाब से आपको ट्रेडिंग में उतरना चाहिए। 

अगर रिस्क को सही से हम मैनेज करना आपने सिख लिया है तो‌ नुकसान होना नामुमकिन हैं। मान लीजिए की आपने किसी शेयर को ₹100 रूपए के प्राइस पर खरीदा है। अब आप इसमें ₹10 का लॉस ले सकते है तब आपको अपने वॉलेट में पहले ही ₹90 पर स्टॉप लॉस को सेट कर देना है। 

अगर बाजार आपके टारगेट प्राइस की तरफ न बढ़कर अचनक नीचे आगया या आने लग जाए तो, जैसे ही वह 90 के कीमत पर आएगा आपकी पोजीशन तुरंत काट जाएगी और आपका एक बड़ा नुकसान होने से बच जायेगा। 

यह भी पढ़ें : Nifty 50 क्या है और यह कैसे काम करता है? 

6. ओवर ट्रेडिंग से दुर रहें

बहुत सारे ट्रेडर का सबसे ज्यादा नुकसान इसी कारण से होता है क्योंकि वे अपने इमोशन को काबू नही कर पाते और ओवर ट्रेडिंग कर बैठते है। यहां बहुत सारे ऐसे ट्रेडर है जो दिन की शुरुआत में अच्छा प्रॉफिट कमाते है लेकिन शाम तक ओवर ट्रेडिंग के कारण अपने प्रॉफिट को लॉस में बदल लेट है।

अगर आप भी एक प्रॉफिटेबल ट्रेडर बनना चाहते है तो आपको यह गलती कदापि नही करना चाहिए यानी आपको ओवर ट्रेडिंग से दुर हमेशा रहना है। आप अगर इंट्राडे ट्रेडिंग करना चाहते है तो पहले से ही आपको यह फिक्स् कर लेना है की आप कितने ट्रेंड ज्यादा से ज्यादा लेंगे इससे होगा ये के आपका कैपिटल बच जायेगा और आप अगले दिन अच्छे से ट्रेडिंग करेंगे।

ज्यादातर लोगो का अगर थोड़ा सा लाॅस हो जाता है तो वे रिकव्हर करने के लिए बादमें दोबारा बिना सोचे समझे किसी भी ट्रेंड में चले जाते है और अपना नुकसान करवा लेते है। इसलिए आपको हमेशा इंट्रा-डे ट्रेडिंग के लिये बेहतरिन टिप्स और अनुशासन को फॉलो करना चाहिए। 

और आपको मार्केट में ट्रेंड तभी करना चाहिए जब चार्ट पर आपंका सेटअप बन रहा हो। 

7. सही स्टॉक का चयन करे

अगर आप इंट्राडे ट्रेडिंग करना चाहते है तो आपको एक सही शेयर का चयन करके ही ट्रेडिंग करना चाहिए। आपको हमेशा इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए Highly Liquidity वाले स्टॉक का चयन करना चाहिए, क्योंकि इस प्रकार के स्टॉक का कीमत अधिक होता है और यह आपके चार्ट पैटर्न के मुताबिक ही काम करती है। 

इस प्रकार के स्टॉक को आप कभी भी खरीद या बेच सकते है। अगर आप ऐसे स्टॉक जिसकी कीमत बहुत कम होती है जिसकी कीमत बहुत कम होती है, इसमें ट्रेडिंग करते है और अगर इसके लोअर सर्किट लग जाता है तो इसको आपको एक लंबे समय तक होल्ड करके रखना पड़ सकता है क्योंकि ऐसे समय में 

8. सही टाइम फ्रेम का चयन करे

दोस्तों इंट्राडे ट्रेडिंग में सही Time Frame (निर्धारित समय-सीमा) का चयन करना काफी ज्यादा महत्पूर्ण होता है। इंट्राडे ट्रेडिंग में आप 1 घंटे या 1 दिन का चार्ट चुनकर बाजार का ट्रेंड पता कर सकते हैं और आप 15 मिनट की टाइम फ्रेम में चार्ट पर अपना स्तर पा सकते हैं।

Intraday Trading में ज्यादातर लोग 5 मिनट और 15 मिनट टाइम फ्रेम का उपयोग अपने चार्ट में सबसे ज्यादा करते है। आपको भी Intraday Trading में अपनी सुविधानुसार 5 या 15 मिनट का टाइम फ्रेम का चयन करना चाहिए और ट्रेडिंग की शुरुआत करना चाहिए। 

यह भी पढ़ें : ऑप्शन ट्रेडिंग के नियम 

9. पैड सब्सक्रिप्शन और न्युज के चक्करों में ना पड़ें

देखिए जब भी कोई नया ट्रेडर इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए मार्केट में आता है एक वह अधिक अधिक से प्रोफिट कमाने के लालच में आ जाता है। जिसको वे शुरुआत में न्युज देखकर या पेंड सब्सक्रिप्शन को पैसे देकर करते है। लेकिन दोस्तों जब तक आप खुद मार्केट को अच्छे तरह से समझ नही लेते है तब तक आपको इनमे से किसी भी चक्करों में भी पढ़नी है। 

क्योंकि ही सभी देखने में आसान होता है लेकिन जब हम रीयल में इनके द्वारा सजेस्ट स्टॉक को बाय करते है तो शुरुआत में अच्छी प्रॉफिट होती है लेकिन बाद में इसके कारण से हमारा पूरा कैपिटल ही खत्म हो जाता है। ऐसा नहीं है कि सभी पैड सब्सक्रिप्शन और न्युज गलत होते है कुछ सही भी होते है, 

लेकिन जब-तब आपको शेअर मार्केट कि अच्छी नाॅलेज ना हो तब तक आपके लिए इनके चक्कर में ना ही पड़ना बेहतर हैं। 

10. अपनी Psychology पर काम करे

इंट्राडे ट्रेडिंग में देखे तो सारा काम Psychology यानी की मनोविज्ञान का होता है। इंट्राडे ट्रेडिंग में टेक्नीकल एनालिसिस या और अन्य ज्ञान आपका 21% ही काम आता है जबकि 79% Psychology काम आयेगा। 

अपने Psychology को ट्रेडिंग के प्रति या किसी और काम के लिए विकसित करना कोई 1 या 2 दिन का बात नही है बल्कि इसमें आपको 1-2-3 साल या इससे अधिक साल का समय भी लग सकता है।

दोस्तों आपको अपनी मनोविज्ञान को विकसित करने के लिए शुरुआत में छोटी कैपिटल के साथ ट्रेड करना चाहिए। और जब आपका Psychology और Confidence दोनो अच्छे तरह से विकसित हो जाएं, तभी आप एक बड़ी कैपिटल के साथ ट्रेड करना शुरू सकते है। 

इंट्राडे ट्रेडिंग मनोविज्ञान की महत्व को जो समझता और उस पर कार्य करता है, वह ट्रेडिंग से बहुत सारा पैसा कमाता है जबकि जो Trading Psychology को महत्व को नही समझते है, भले ही उनको तमाम स्ट्रैटेजी और तकनीकी विश्लेषण का ज्ञान हो वे मार्केट से पैसे गँवाकर ही बाहर आता है।

दोस्तों, अगर आप भी इंट्राडे ट्रेडिंग से अच्छा पैसा बनाना चाहते है तो पहले अपनी इंट्राडे ट्रेडिंग मनोविज्ञान विकसित करने का अभ्यास आज से ही शुरू कर दें।

यह भी पढ़ें : कैसे पता करें की कल Nifty बढ़ेगा या घटेगा

11. स्टॉक का एंट्री और एग्जिट प्राइस पहले से ही तय करे

किसी भी शेयर को उसके सही कीमत पर खरीदना काफी ज्यादा महत्वपूर्ण होता है। इंट्राडे ट्रेडिंग के दौरान जब भी आप किसी शेयर को Buy करते है, उससे पहले आपको उसकी एंट्री और एग्जिट प्राइस पर जरूर ध्यान देना चाहिए, तभी आप ट्रेडिंग से बड़ा प्रॉफिट बना सकते है।

ज्यादातर ट्रेडर यही गलती कर बैठते है, की वे ट्रेडिंग के दौरान शेयर की सही एंट्री और एग्जिट तय नहीं कर पाते है। यानी वे शेयर के एंट्री के समय का प्राइस और एग्जिट प्राइस पर ध्यान नही देते है। जिससे उनकी कैपिटल में से अच्छी खासी नुकसान हो जाता है। 

इसलिए आपको किसी भी स्टॉक को खरीदने से पहले उसकी एंट्री और एग्जिट प्राइस पहले से ही तय कर लेना है। 

12. बाजार के ट्रेंड का हमेशा ध्यान रखे 

Intraday Trading Tips in Hindi : “नदी के प्रवाह के विपरीत तैरने की कोशिश करते है तो आप शायद ही तैर पाए” यह कहावत तो आप लोगो ने जरूरी सुना ही होगा। ट्रेडिंग बिलकुल इसी तरह का होता है, हमे इंट्राडे ट्रेडिंग के दौरान मार्केट ट्रेंड का पता होना जरूरी है। 

हमे इस बार का ज्ञान जरूर होना चाहिए की आज मार्केट का ट्रेंड क्या चल रहा है। यह ऊपर की तरफ है या फिर निचे की तरफ। आप मार्केट खुलने के कुछ समय बाद सेंसेक्स और निफ्टी इंडेक्स को देखकर मार्केट के ट्रेंड का अनुमान लगा सकते है की मार्केट का ट्रेंड अप है या डाउन। 

जब आपको लगे की मार्केट का ट्रेंड उपर की ओर है तो आप किसी शेयर को खरीद सकते है, सर अगर आपको लगता है की मार्केट का ट्रेंड नीचे चल रहा है तो स्टॉक को आप सेल कर सकते है। 

यह भी पढ़ें : कॉल और पुट ऑप्शन क्या है और इन्हें कब खरीदना और बेचना चाहिए? 

13. सही तरीके से Money Management करे

इंट्राडे ट्रेडिंग में देखे तो बहुत सारे ऐसे ट्रेडर होते है जिन्हे सही तरीके से Money Management करना आता ही नहीं है। जिसके कारण उन्हें जल्दी ही अपनी प्रॉफिट को गंवाना पड़ता है। इसलिए आपको Intraday Trading Tips in Hindi में आपको सही से Money Management करना आना चाहिए। 

मनी मैनेजमेंट के लिए आपको हमेशा अपनी पूंजी का 10 से 15% ही उपयोग करना चाहिए। उदाहरण के लिए अगर आपके पास 1 लाख रुपए है तो आपको एक साथ सारी पूंजी लगाकर ट्रेडिंग नही करनी है ऐसा करने से आप अपनी सारा पूंजी जल्द ही गंवा दोगे। 

इसके आलावा आपको 1 लाख के कैपिटल में से शुरुआत में केवल 10 हजार का ट्रेडिंग करना चाहिए। ऐसा करने से आपका माइंडसेट सही रहेगा और आप अच्छा प्रॉफिट बना पाओगे। 

अगर आपने आज 10 हजार का ट्रेड किया जिसमे आपका 2 हजार का नुकसान हो जाता है, तो अगले दिन फिर से आपके पास ट्रेडिंग करने के लिए 10 हजार रूपए ट्रेडिंग करने के लिए बचे रहेंगे। और आप उस 2 हजार रूपये के लोस को आसानी से रिकवर कर सकते है।

वहीं यदि आपने 1 लाख रुपए की पूरी कैपिटल के साथ ट्रेडिंग करना शुरू करते है और आपको 20 हजार रूपए का लॉस हो जाता है तो फिर अगले दिन आपके पास ट्रेड करने के लाए 80 हजार रूपए बचते है, इससे आपका 20 हजार का लॉस कभी रिकवर भी होगा। 

इसके बाद आप अपने लॉस को रिकवर करने की कोशिश में और ट्रेडिंग करते है जिससे आपका पूरा कैपिटल चला जाता है। इसलिए दोस्तों आपको मनी को मैनेज करना अच्छे से आना चाहिए। 

14. शुरुआत हमेशा छोटी कैपिटल से करे

जब भी कोई शुरुआत में इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए मार्केट में कदम रखता है तब तो उसका लॉस होना तय ही है। और इस लॉस कारण को आप मार्केट को सीखने में ट्रेडिंग से या आप किसी और कारण को मान सकते है। 

यदि आप शुरुआत से ही 1 लाख या इससे अधिक का ट्रेडिंग करते है, तो ऐसे में आप उसे लॉस करके जल्द ही गवां सकते है और इसमें आपको सीखने के लिए भी कुछ नही मिलेगा। इसलिए आपको इंट्राडे ट्रेडिंग की शुरुआत सीखने के उद्देश्य से करना है न की प्रॉफिट कमाने के उद्देश्य से। 

अब अगर आप सीखने के उद्देश्य से मार्केट में आ रहे है तो आपकी कैपिटल 5 हजार रूपये या फिर 10 हजार रूपये हो सकती है। इसमें यदि आपका नुकसान भी हो जाता है तो आपको ज्यादा टेंशन भी होगा, जिससे आप लगातार ट्रेडिंग करते रहेंगे। 

15. Candlestick और Chart Pattern को समझे

Candlestick और Chart Pattern इंट्राडे ट्रेडिंग में इसे बिना इसे समझे सफल नही बन सकते। अगर आप इसे अच्छे समझना चाहते है तो आप यूट्यूब या बुक का सहारा ले सकते है। एक बार जब आप Candlestick और Chart Pattern को अच्छे से समझ जायेंगे तब आपके लिए ट्रेडिंग से पैसा बनाना आम बात हो जायगी। 

यह भी पढ़ें : ऑप्शन ट्रेडिंग में कितना चार्ज लगता है?

16. मार्केट से हमेशा अपडेट रहे

देश तथा विश्व का राजनीतिक और आर्थिक हालातों का प्रभाव हमे सीधा शेयर मार्केट पर देखने को मिलता है। इसलिए आपको ट्रेंड के दौरान इन सभी के बार में यानी देश तथा विश्व का राजनीतिक और आर्थिक हालातों पर ध्यान जरूर देना चाहिए। 

जैसे की यदि भारत सरकार ने पवन ऊर्जा और सौर ऊर्जा पर कोई बड़ा फैसला लेती है। जिससे इस क्षेत्र के संबंधित जितनी भी कंपनी है उन कंपनियों का सीधा फायदा होगा। और इसदीन Adani Green और ऐसी तमाम सारी कंपनियों के शेयर प्राइस में बढ़ोतरी होगी, 

अगर आप इनमे से किसी एक कंपनी के शेयर में ट्रेडिंग करते है तो आपका उस दिन फायदा होने की पूरी संभावना रहती है।

17. अलग-अलग शेयर खरीदे

वैसे तो लंबे समय के निवेश के लिए कहा जाता है की अपने पोर्टफोलियो को Diversify रखना चाहिए, जिसमे आपको अलग अलग कंपनी के शेयर रखना चाहिए। लेकिन यह इंट्राडे ट्रेडिंग में काफी हद तक ही काम करता है। अगर आप दिन में 2 से 3 ट्रेड करते है तो इसके रिश्क थोड़ा काम होता है। 

उदाहरण में लिए किसी दिन ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री के लिए कोई बुरी खबर सुनने में आ रहा है और आपने सभी शेयर इसी क्षेत्र के खरीद रखे है तब तो आपका नुकसान होना तय है। लेकिन इसके विपरित यह भी हो सकता है ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री के बारे में अच्छी खबर आए जिसमे आपको अच्छा प्रॉफिट हो। 

लेकिन यह तरीका बिलकुल भी सही नही है। अगर आप सुरक्षित रहना चाहते है तो इसके लिए आपको कम से कम 2 या 3 अलग-अलग क्षेत्रों की कंपनियों में ट्रेंड करना चाहिए। 

यह भी पढ़ें : Option Chain Analysis in Hindi – ऑप्शन चैन क्या होता है?

18. सही मानसिकता का निर्माण करें

ज्यादातर लोग, जो मार्केट में व्यापार करना शुरू करते है उन्हे ट्रेडों को खोने और चीजों को गलत करने से निपटने के लिए सही मानसिकता का विकास करना पढ़ता है। हालाकि, वित्तीय बाजारों का व्यापार संभावित परिणामों के बारे में है, जिसके कारण हो सकता है की आप हार जाएं और आप इसे गलत समझे। 

यदि यह भावनाएं आप पर हावी हो जाते है तो आप मार्केट में अपने सभी निष्पक्षता को खो देते हैं। आप जो सोचते हैं, वह व्यापार करना शुरू कर सकते हैं, और फिर अपने ट्रेडिंग खाते को मिटा सकते हैं। अगर आप सही मानसिकता का विकास करना चाहते है तो आपको इसके लिए बाद अपने आप को अन्य व्यापारियों के साथ घेर लेना है, उन्ही लोगो को जिनके पास अधिक अनुभव हो। 

19. इंट्राडे में टेक्निकल एनालिसिस को समझें

वैसे तो दोस्तों इंट्रा डे ट्रेडिंग में फंडामेंटल एनालासिस का कोई खास जरूरत नही होता। परंतु टेक्निकल एनालिसिस का जानकारी होना बहुत जरूरी है। क्योंकि इंट्राडे ट्रेडिंग में हम शेयर को ज्यादा समय तक रखते है इसलिए Fundamental Analysis ज्यादा मायने नहीं रखता। 

दोस्तो टेक्निकल एनालिसिस में आप मार्केट के ट्रेंड, प्राइस, वेल्यूम और अन्य कारकों के बारे में जानकारी ले सकते है। वैसे तो टेक्निकल एनालिसिस करने के लिए आपको कई तरह के टूल्स और चार्ट दिए जाते है। जिसके मदद से आप आसानी से इन्हे समझ सकते है और इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए अहम फैसले ले सकते है।

20. रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो मेंटेन करे

दोस्तो ट्रेडिंग के दौरान रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो (Risk Reward Ratio) का हमेशा ध्यान रखना चाहिए। अगर आप 1:1 का रेश्यो रखते है तो आपको 10 ट्रेड में से 6 ट्रेड में प्रॉफिट कमाना होगा, तभी आप प्रॉफिटेबल बन पाओगे। 

वहीं अगर आपका रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो 1:2 है यानी अगर आप किसी शेयर ने 100 रुपया का लॉस ले सकते है तक उसमे प्रॉफिट 200 रुपए होना चाहिए। 

अगर आप इस तरीके का इस्तेमाल करते है तो आप 10 ट्रेड में से 4 से 5 ट्रेड में प्रॉफिट होने की पूरी संभावना रहेगी। इसलिए आपको इंट्राडे ट्रेडिंग में हमेशा अपने रिश्क रिवार्ड रेश्यो का ध्यान रखना चाहिए। 

यह भी पढ़ें : ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है और कैसे करे?

21. ट्रेडिंग को बिज़नेस की तरह ले और हमेशा सीखते रहे

दोस्तों किसी भी बिजनेस में सफल होने के लिए उसे लागतार सीखने की आवश्यकता होती है, तभी जाकर आप अपने उस बिजनेस में अच्छा ग्रो कर सकते है। ठीक इसी प्रकार Intraday Trading Tips in Hindi में भी है, आपको अपने ट्रेडिंग को एक बिजनेस की तरह ट्रीट करना है और लागतार सीखते रहना चाहिए।

दोस्तों शेयर मार्केट एक बहुत बड़ा क्षेत्र है जिसे समझना कुछ दिन या कुछ महीनों की बात नही है। अगर आप एक सफल ट्रेडर बनना चाहते है तो इसके लिए आपको लागतार सीखते रहने के आवश्यकता है। ट्रेडिंग में जो सबसे जरुरी है वह यह है कि आप जो ट्रेडिंग के दौरान रोज गलतियाँ करते है उससे सीखते रहे और भविष्य में उन गलतियों को दौबारा रिपीट ना करे। 

Telegram Group👉 Click Here
WhatsApp Group👉 Click Here
Google News 👉 Click Here

FAQs:

1. इंट्राडे ट्रेडिंग क्या होता है?

Ans: एक ही दिन में किसी स्टॉक को खरीदने और बेचने का काम होता है उसे इंट्राडे ट्रेडिंग कहते है। 

2. क्या लोग इंट्राडे ट्रेडिंग से पैसे कमाते हैं?

Ans. जी हां, यहां काफी सारे ट्रेडर है जो रेगुलर इंट्राडे ट्रेडिंग के माध्यम से लाखों रुपए भी कमाते हैं।

3. बिना नुकसान के इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करें?

Ans. बिना नुकसान के इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए आपको स्टॉप लॉस सेट करके रखना चाहिए।

Conclusion (Intraday Trading Tips in Hindi) 

आज के इस पोस्ट में आपने Intraday Trading Tips in Hindi के बारे में विस्तार से जानकारी पा लिया है। हम हम उम्मीद करते है की अब आप ऊपर बताए सभी टिप्स को अच्छे से फॉलो करेंगे, जिससे आपका लॉस काम होगा और प्रॉफिट में वृद्धि होगा। अगर यह लेख आपको अच्छा लगा तो इसे 5 रेटिंग जरूर दें।

आप Intraday Trading Tips in Hindi पोस्ट में बताए सभी प्वाइंट के अच्छे से फॉलो करके है तो आपका प्रॉफिट होना तो निश्चित है और आप बहुत कम समय के एक सफल ट्रेडर बन सकते है। दोस्तों Intraday Trading करते समय आपके जीवन में एक ऐसा वक्त भी आएगा जिसमे आपका मन ट्रेडिंग में भी लगेगा, लेकिन आपको हिम्मत नही हारनी है और मार्केट में टिके रहना है।

अगर यह पोस्ट आपको अच्छा लगे तो इसे अपने दोस्तों और अपने सोशल मीडिया में शेयर जरूर करे जिससे वे लोग भी इंट्राडे ट्रेडिंग के इन सभी टिप्स को जान सकेंगे। अगर इस पोस्ट से संबंधित आपके मन में कुछ भी डाउट या कंफ्यूजन होगा तो उसे हमे कॉमेंट करके जरूर बताएं हम आपको रिप्लाई देने की पूरी कोशिश करेंगे।

धन्यवाद!

हमेशा सीखते रहिए ❤️

Read Related Articles: 

1/5 - (1 vote)

About The Author

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top