Option Chain Analysis in Hindi (2023) | ऑप्शन चैन क्या होता है, पूरी जानकारी

Option Chain Analysis in Hindi (2023) | ऑप्शन चैन क्या होता है, पूरी जानकारी

Hello Friends, आज मैं आपो बताऊंगा Option Chain Analysis in Hindi के बारे में। यानी की ऑप्शन चैन क्या होता है और Option Chain Analysis कैसे करे के बारे में। अगर आपको भी इस बारे में जानना है तो इस पोस्ट को आखिर तक जरूर पढ़ें। 

Option Chain एक बहुत ही Powerful Tool है जिसका उपयोग कर Tradors ऑप्शंस में ट्रेडिंग करते हैं। मैने अपने पिछले पोस्ट में आपको विस्तार से ऑप्शन ट्रेडिंग के बारे में जानकारी दिया था लेकिन इस पोस्ट में मैं आपको ऑप्शन चैन के बारे में विस्तार से बताऊंगा। 

दोस्तों जब हम ट्रेडिंग की दुनिया या ऑप्शन ट्रेडिंग की दुनिया में कदम रखते हैं तो फिर हमें काफी सारी नई चीजों के बारे में पता चलता है। जिनके माध्यम से पता लगाया जा सकता है कि ऑप्शंस के प्राइस कब ऊपर जा सकते हैं और कब नीचे जा सकते हैं। उन्हीं में से एक है ‘ऑप्शन चेन (Option Chain)‘ 

जो आपको ऑप्शन ट्रेडिंग के क्षेत्र में सफल होने में काफी ज्यादा सहायता करेगा। तो दोस्तों चलिए अब विस्तार से ज्यादा वक्त गंवाए बिना Option Chain Analysis in Hindi के बारे में जानते हैं। लेकिन उससे पहले ऑप्शन चैन के बारे में थोड़ा बहुत जान लेते हैं।

Telegram Group👉 Click Here
WhatsApp Group👉 Click Here
Google News 👉 Click Here

ऑप्शन चैन क्या होता है

ऑप्शन चैन एक चार्ट है जो की विभिन्न स्ट्राइक प्राइस के कॉल (Call) और पुट ऑप्शन (Put Option) के लिए डेटा दिखाता है। Option Chain का सीधा संबंध इंडेक्स के उन शेयरों के साथ होता है जिनमें फ्यूचर्स एंड ऑप्शंस को खरीदे और बेचे जाते हैं। ऑप्शन चैन डाटा एनालिसिस के माध्यम से आप अपनी Trading Accuracy को काफी अधिक बढ़ा सकते हैं। 

F&O Trading में ऑप्शन चेन एक काफी ज्यादा पावरफुल टूल की तरह काम करता है, जिससे आपको सभी इंपोर्टेंट डेटा एक ही जगह पर आसानी से मिल जाता है। 

अगर दूसरे शब्दों में Option Chain Analysis in Hindi के बारे में बात करूं तो ऑप्शन चेन कॉल और पुट ऑप्शन के स्ट्राइक प्राइस का एक Chain होता है जो की ओपन इंटरेस्ट, Bid और Ask प्राइस, वॉल्यूम, लास्ट ट्रेडेड प्राइस (LTP), Implied Volatility (IV) आदि चीजे प्रदर्शित करती है।

शुरुआत में अधिकतर लोगों के लिए ऑप्शन चेन को समझना बहुत ही ज्यादा डरावना होता है क्योंकि जब हम पहली बार NSE की वेबसाइट पर जाकर ऑप्शन चेन के डेटा को देखते हैं तो वहां पर बहुत सारे Numbers दिखाई देते हैं। जिन्हें देखते ही कोई भी घबरा जाता है। 

लेकिन चिंता मत कीजिए मैं आज आपको ऑप्शन चैन इतनी सरल भाषा में समझा दूंगा कि इस लेख को पढ़ने के बाद आपको ऑप्शन चेन क्या होता है इसके बारे में किसी से भी पूछने की जरूरत नहीं पड़ेगी। तो चलिए दोस्तों अब जानते हैं की ऑप्शन चैन कैसे काम करता है?

ऑप्शन चैन कैसे काम करता है

शेयर मार्केट ट्रेडिंग में ऑप्शन चेन काफी ज्यादा पावरफुल टूल के रूप में काम करता है, जिसका उपयोग बड़े-बड़े ट्रेडर्स द्वारा किया जाता है। ऑप्शन चैन आपको एक ही जगह पर बहुत सारा जरूरी डाटा देख उपलब्ध करवा देता है, जो की आपको इंट्राडे ट्रेडिंग या फिर ऑप्शन ट्रेडिंग करने में काफी ज्यादा मदद करता है।

Read Also: क्या Trading करना चाहिए? 

ऑप्शन चैन डाटा कैसे देखे

ऑप्शन चैन डाटा देखने के लिए आपको नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करना होगा –

  • ऑप्शन चेन डाटा देखने हेतु सबसे पहले आपको Google पर ‘NSE Option Chain‘ लिखकर सर्च करना है।
  • उसके बाद सबसे पहली वेबसाइट आपको NSE की दिखेगी, जिसमें आपको क्लिक करना है।
  • अब आपके सामने एनएसई ऑप्शन चैन (NSE Option Chain) का मुख्य पेज खुल जाएगा।
  • फिर Left Side में आपको View Option Contract For’ दिखेगा। जहां यहां से आप इंडेक्स जैसे – NIFTY, BankNifty इत्यादि की पूरी ऑप्शन चैन डाटा दिख जायेगा। 
  • अगर आप किसी कम्पनी के स्टॉक का ऑप्शन चैन डाटा देखना चाहते हैं तो उसी के साइड में ही आपको ‘Select Symbol’ का ऑप्शन दिखेगा। जिसमें से आप अपने हिसाब से किसी भी स्टॉक को चुन कर उसका पूरा ऑप्शन चेन डाटा आसानी से देख सकते हैं।

ऑप्शन चेन को कैसे समझे

Option Chain Analysis in Hindi के इस लेख में अब मै आपको ऑप्शन चेन को कैसे समझें? इसके बारे में बताने वाला हूं। ताकि आप इसे आसानी से समझ सके और एक सफल ट्रेडर बन सके। ऑप्शन चेन को समझने के लिए सबसे पहले आपको स्ट्राइक प्राइस को अच्छे से से समझना होगा। आपको ये जरूर पता होना चाहिए की 

Option Chain में दो शब्द होते हैं, एक Option और दूसरा Chain. हमने अभी ऑप्शन के बारे में तो विस्तार से बात किया मगर Chain क्या होता है? इसके बारे में नहीं किया। Chain शब्द का मतलब जानना आपके लिए बहुत जरूरी है। क्योंकि यह ऑप्शन चेन को समझने में आपको मदद करता है।

  • ऑप्शन चैन में ‘Chain’ शब्द को इसीलिए जोड़ा गया क्योंकि Call और Put Options के काफी सारे डेटा हमें एक Chain के रूप में ही दिखाई देते हैं। चाहे वह स्ट्राइक प्राइस हो, ओपन इंटरेस्ट हो,  वॉल्यूम हो या Bid Ask Qty हो इन सभी डेटा की एक पूरी चैन बनी होती है। इसीलिए इसे ऑप्शन चैन कहा जाता है।

जिस कॉल और पुट ऑप्शन्स से आप ऑप्शन ट्रेडिंग में ट्रेड लेते हैं अर्थात करते हैं, उनके काफी सारे स्ट्राइक प्राइस होते हैं, साथ ही प्रत्येक स्ट्राइक प्राइस के सामने अलग-अलग डाटा दिखता है। जैसे की – Volume, IV, Bid Qty, Open Interest, Ask, Change in OI, Qty आदि।

चलिए इसे अब उदाहरण द्वारा समझते हैं –

जैसे निफ्टी और बैंक निफ्टी का जो वर्तमान प्राइस होता है उसे ऑप्शन चैन में ATM (At The Money) ऑप्शन बोला जाता है। मान लीजिये की अभी निफ्टी 18200 पर ट्रेड कर रहा है तो फिर इसका ATM स्ट्राइक कीमत भी 18200 ही होगा।

लेकिन दोस्तों ऑप्शन चैन में सिर्फ ATM ही नहीं बल्कि इसके अलावा ITM (In The Money) और OTM (Out The Money) जैसे स्ट्राइक प्राइस भी मौजूद होते हैं। जैसे की यदि मार्केट अभी 18200 पर चल रहा होगा, तो इनके ओटीएम (OTM) होंगे 18300, 18400, 18500, 18600, 18700…. 

ये सभी OTM स्ट्राइक प्राइस हैं जिनकी ऊपर की तरफ बहुत लंबी Chain बनी होती है। इसी प्रकार 18200 वाली NIFTY के ITM – 18100, 17900, 17800, 17700, 17600….. होंगे। ये सभी ITM स्ट्राइक प्राइस हैं, इनके नीचे की ओर बहुत लंबी चैन बनी होती है। 

वहीं ATM को ऑप्शन चैन डाटा में बीच यानी Center में रखा जाता है। इसके साथ ही जब लाइव मार्केट में Nifty का प्राइस बदलता है तो उसके ATM, ITM और OTM भी उसी के अनुसार बदलते रहते हैं।

ये जितने भी OTM, ITM और ATM जैसे स्ट्राइक प्राइस होते हैं इनके सामने आपको सभी स्ट्राइक प्राइस के भिन्न भिन्न ओपन इंटरेस्ट, Bid Price, वॉल्यूम, Ask Price आदि दिख जायेंगे।

तो दोस्तों इस तरह से एक बहुत बड़ी चैन का निर्माण होता है और यही कारण है की आपको ऑप्शन चैन के डेटा में काफी सारे सारे नंबर दिखाई देते हैं। क्योंकि हर नंबर स्ट्राइक प्राइस के सामने अलग-अलग होते हैं जो Row और Column में मौजूद होते हैं। उनमें हो उस स्ट्राइक कीमत का अपना एक अलग डाटा होता है।

ऑप्शन चैन डाटा देखकर क्या पता चलता है

ऑप्शन चैन डाटा देखकर यह पता चलता है कि आज मार्केट किस दिशा में ट्रेड करेगा, निफ्टी या बैंकनिफ्टी ऊपर की ओर जाएगा या नीचे की ओर। सिर्फ यही नहीं बल्कि इसके अलावा ऑप्शन चैन डाटा एनालिसिस करने पर आपको कई प्रकार के जरूरी सपोर्ट एंड रेजिस्टेंस लेवल के बारे में भी पता चलता है। 

साथ ही ऑप्शन चैन डाटा देखकर आपको यह भी पता चलता है कि किस Strike Price पर कितने लोग बैठे हैं और वर्तमान में उस स्ट्राइक प्राइस का क्या रेट चल रहा है। और उस स्ट्राइक प्राइस पर कितना ओपन इंटरेस्ट है, इसका पता भी चलता है। 

अगर आपको Option Chain Data देखकर रेजिस्टेंस लेवल और सुपोर्ट का पता करना चाहते हैं तो फिर आप नीचे दिए गए Steps को फॉलो कर सकते हैं –

  • सबसे पहले आप उस स्ट्राइक प्राइस को ढूंढे है जिसका ओपन इंटरेस्ट डाटा में सबसे अधिक हो।
  • हमेशा कोशिश करें कि कि जिस स्ट्राइक प्राइस पर मार्केट ट्रेड कर रहा है, उससे बिल्कुल नज़दीक का Highest ओपन इंटरेस्ट वाला स्ट्राइक प्राइस देखें।
  • अधिक ओपन इंटरेस्ट वाला स्ट्राइक प्राइस देखने के पश्चात आपको आसानी से पता चल जायेगा कि प्राइस उससे अधिक नहीं जा पायेगा, यह काफी मुश्किल है। 
  • मतलब उसे आप रेजिस्टेंस की मांग कर सकते हैं, यह पहला रेजिस्टेंस होगा, ठीक इसी प्रकार स्ट्राइक प्राइस से थोड़े कम ओपन इंटरेस्ट वाला स्ट्राइक प्राइस आपका दूसरा रेजिस्टेंस होगा।
  • इसी तरह से आप पुट की ओर भी सबसे ज्यादा ओपन इंटरेस्ट वाले स्ट्राइक प्राइस को देखकर सपोर्ट पता आसानी से लगा सकते हैं।
  • लेकिन ध्यान रहे दोस्तों इन दोनों में आपको करंट मार्केट प्राइस (ATM) के नजदीक वाला ओपन इंटरेस्ट ही देखना है।

Read Also: Multibagger Stock क्या है?

Option Chain Analysis in Hindi – ऑप्शन चैन एनालिसिस क्या होता है

अब बारी आ गया है Option Chain Analysis in Hindi के बारे में जानने का। स्ट्राइक प्राइस के ओपन इंटरेस्ट के एनालिसिस को ही ऑप्शन चैन एनालिसिस कहा जाता है। ऑप्शन चैन एनालिसिस करने के लिए आपको कई प्रकार के स्ट्राइक प्राइस के ओपन इंटरेस्ट (Open Interest) को को ध्यानपूर्वक Analyse करना होता है।

तो आइए जानते हैं की –

Option Chain Analysis कैसे करे

ऑप्शन चेन डाटा का एनालिसिस (Option Chain Data Analysis) करने हेतु आपको ऑप्शन चेन के प्रत्येक डेटा का एक एक करके बारीकी से एनालिसिस करना पड़ेगा। इसके लिए मैंने नीचे कुछ जरूरी Points बताए हैं, जिन पर आपको गौर अवश्य करना चाहिए।

मैं आपको पहले ही बता दूं कि नीचे कुछ जरूरी Points दिए गए जो आपको थोड़े एडवांस और Complicated लग सकते हैं। लेकिन ये जरूरी भी तो है, इसलिए आराम से इनको पढ़ें और समझें –

  1. सबसे पहले यह देखें किनचेंज इन ओपन इंटरेस्ट (CHNG IN OI) किसमें ज्यादा है, कॉल में है या पुट में।
  2. साथ ही Call की IV ज्यादा है या फाई Put की IV, इसको बी आपको देखना है और जिसकी IV ज्यादा है उसे ही Buy करना है।
  3. वहीं जिसकी IV कम होगी उस तरफ मत जाओ। यदि IV टूट रही है तो इसका मतलब है की OPTIONS की सेलिंग अधिक मात्रा में हो रही है।
  4. Change in OI में देखें कि कॉल में ज्यादा चेंज हो रहा है या पुट में, उसके बाद दोनों का PCR (Put Call Ratio) ज्ञात कर लो। अगर ये रेश्यो 1 से ज्यादा हो, तो इसे आप Buy कर सकते हैं।
  5. ध्यान रखिएकी आपको सिर्फ कुछ ही स्ट्राइक का डेटा कंबाइन करके PCR ज्ञात करना है।
  6. इस पर भी नजर रखें कि प्रत्येक 5 मिनट में डेटा कितना चेंज हो हो रहा है।
  7. PCR Slope देखें, अगर यह Uptrend है तो Call खरीदो और अगर Downtrend है तो Put खरी लो।
  8. जिन स्टॉक्स में लिक्विडिटी ज्यादा होती है उनमें ऑप्शन चैन एनालिसिस बहुत बहुत ही अच्छे से काम करती है।
Telegram Group👉 Click Here
WhatsApp Group👉 Click Here
Google News 👉 Click Here

FAQs: 

1. ऑप्शन ट्रेडिंग में IV कितना होना चाहिए? 

अधिकांश व्यापारी 20% से लेकर 25% तक के IV के साथ ही सहज नजर आते हैं।

2. ऑप्शन ट्रेडिंग में कितना पैसा लगता है?

ऑप्शन में ट्रेडिंग करने पर प्रति Transection 0.03% से 0.60% एक एक्जीक्यूटेड का चार्ज लगता है। बता दें की यह भिन्न भिन्न स्टॉक मार्केट ब्रोकिंग फर्म पर भी निर्भर करता है। जेरोधा (Zerodh) में फ्यूचर्स और ऑप्शंस हेतु ₹100 प्रति ऑर्डर चार्ज लगता है।

3. ऑप्शन ट्रेड करना सीखने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

ऑप्शन ट्रेडिंग सीखने और करने के लिए आपको कॉल और पुट ऑप्शन, स्ट्राइक प्राइस, ऑप्शन ग्रीक्स, प्राइस मूवमेंट इंडिकेटर, चार्ट पेटर्न आदि और इसके साथ ही टेक्निकल एनालिसिस का ज्ञान भी आपके पास होना बहुत जरूरी है। आप किताबें भी खरीद सकते हैं जो आपको Option Trad सीखने में काफी मदद करेंगे।

Conclusion (Option Chain Analysis in Hindi) 

तो दोस्तों, इस पोस्ट में आपने Option Chain Analysis in Hindi के बारे में जाना। उम्मीद है की आपको मेरे द्वारा लिखे गए इस आर्टिकल के जरिए काफी कुछ नया पता चला होगा। इसके दी गई जानकारी के माध्यम से आपको ट्रेडिंग करने में काफी आसानी जरूरी होगी। 

अगर आपके मन में Option Chain Analysis को लेकर अभी भी कोई सवाल या Doubt होगा, तो कृपया कॉमेंट करके जरूर पूछें। साथ ही इस पोस्ट को अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर भी करें, ताकि उन्हें भी इसके बारे में पता चल सके और उनकी भी सहायता हो सके।

साथ ही अगर आपको इसी तरह की जानकारी पसंद है तो फिर हमारे साथ Whatsapp पर अवश्य जुड़े। क्योंकि वहां हम Daily इसी तरह की जानकारी लेकर आते रहते हैं और इस पोस्ट को 5 Star Rating जरूर दें। 

धन्यवाद

हमेशा सीखते रहिए ❤️

4.2/5 - (19 votes)

About The Author

2 thoughts on “Option Chain Analysis in Hindi (2023) | ऑप्शन चैन क्या होता है, पूरी जानकारी”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top