Share Market और Mutual Fund में अंतर : 2024 में निवेश के लिए कौन सही है?

Share Market और Mutual Fund में अंतर

हेलो दोस्तो आशा करता हूं की आप लोग बिलकुल टिक ही होंगे। आज की इस और नई पोस्ट में हम जानेंगे की क्या है Share Market और Mutual Fund में अंतर

दोस्तो आप लोगो को टेलीविजन के कई चैनल और अखबार के प्रथम पृष्ठ में रोजाना एक ही खबर देखने या पड़ने को मिलता होगा की आज शेयर बाजार इतने अंको की बड़ी उछाल में है या आज शेयर बाजार गिरावट की ओर है।

आप लोग तो Share Market और Mutual Fund के बारे में जानते ही होंगे, इसके बारे में आपने Google, Youtube, अखबार, News में तो एड्स/प्रचार देखा ही होगा। तो चलिए आज हम इन्ही के बारे में यानी Share Market और Mutual Fund में अंतर जानते है

जब भी कोई नया निवेशक निवेश करने के बारे में सोचता है तो सबसे पहले यही सवाल उसके मन में रहता है की Share Market या Mutual Fund, इसमें से किसमे निवेश करना ठीक होगा या फिर Share Market और Mutual Fund दोनो में से एक चुने तो किसको चुनना चाहिए? 

तो आइए हम बताते है की किसमे पैसा लगाने से फायदा है और कितना? और इसके अंतर को भी जानते है। Share Market में पैसा लगाए या Mutual Fund में पैसा लगाए, जानिए कहा होता है अधिक लाभ?

Telegram Group👉 Click Here
WhatsApp Group👉 Click Here
Google News 👉 Click Here

Share Market Vs Mutual Fund in Hindi

Share Market और Mutual Fund वित्तीय बाजार (Financial Market) में सबसे लोकप्रिय निवेश साधन है। शेयरों में निवेश यानी आप सीधा इक्विटी बाजार में निवेश कर रहे होते है। जबकि Mutual Fund में निवेश यानी की एक प्रोफेशनल फंड मैनेजर आपके लिए इक्विटी फंड या डेट फंड में निवेश कर रहा होता है। 

इन दोनो निवेश के रूपों में अलग – अलग फायदे और नुकसान हैं। तो चलिए Share Market और  Mutual Fund में अंतर जानने से पहले ये क्या होते है उसे जान लेते है, ताकि आपके मन में कोई भी डाउट न रहे।

➡️ Share Market क्या है (What is Share Market in Hindi)

शेयर मार्केट को मैं आपको एक उदाहरण के माध्यम से समझाता हू, ताकि आप अच्छे से Share Market को समझ जाए साथ ही आपको Share Market और Mutual Fund में अंतर भी आसानी से समझ आ जाए। मान लीजिए की आपने एक दुकान खोला है या खोलना चाहते है, 

और उसमे आपको शुरुआत में ₹1000 निवेश करना है लेकिन आपके पास मात्र ₹500 है, तो आप क्या करेंगे? या तो आप बैंक से लोन लेंगे या किसी व्यक्ति से उधार मागेंगे! यदि आप बैंक से लोन लेते है तो आपको कुछ समय पश्चात बैंक को मूलधन समेत ब्याज भी बैंक को लौटना पड़ेगा। 

इससे बैंक को कोई फर्क नही पड़ेगा भले ही आपका दुकान चले या डूब जाए। आपको बैंक को एक निश्चित अवधि पर किसी न किसी हाल में पैसे को लौटना ही होगा वो भी ब्याज के साथ। तो फिर आप एक ऐसे व्यक्ति के तलाश में है और कर्ज लेना चाहते है की यदि मुझे दुकान खोलने के लिए ₹1000 की जरूरत है, 

और मेरे पास ₹500 है और जो अन्य व्यक्ति मुझे ₹500 देगा, वह मुझे मेरा पैसा कुछ समय बाद वापस चाहिए यह शर्त से न देकर बल्कि शर्त पार्टनरशिप का होना चाहिए। यानी दुकान से आए हुआ धन को लगाए गए पैसे के आधार पर आपस में बाट लेंगे ये शर्त होनी चाहिए। 

यानी हानि हो तो दोनो का हो और लाभ हो तो भी दोनो का हो। और ये कर्ज लेकर व्यापार करने इस idea बैंक से लोन लेने से कई बेहतर है। अब बस आप समझ लीजिए कि इसी तरह से किसी देश का Share Market काम करता है।  

अगर किसी कंपनी का बजट है 10 हजार रुपए लेकिन उसके पास 9 हजार पहले से है और उसे 1 हजार की जरूरत है, और यदि आपने 1 हजार उसमें लगा दिया, जिससे कम्पनी की जरूरत पूर्ण हो गई और 10 हजार का 10% होता है 1 हजार, जो की आपने उसमें निवेश किया है

ऐसे में कल यदि कम्पनी काफी अच्छी ग्रोथ कर जाती है और उसका बजट 1 लाख जो जाता है तो 1 लाख का 10% होगा 10 हजार, जो की आपको दिया जायेगा। क्योंकि आपने इसमें शुरू में जो निवेश किया था वो 10% था, इसलिए आपको इतना ही मिलेगा।

और यदि कम्पनी ग्रोथ करने के बजाए नीचे गिरती है तो कम्पनी के साथ साथ इसका नुकसान आपको भी होगा।

Read Also: 2024 में IPO कैसे खरीदें ?

➡️ Mutual Fund क्या है (What is Mutual Fund in Hindi)

म्यूचुअल फंड को शेयर मार्केट का अपडेट वर्जन कहा जा सकता है। यह स्टॉक और बॉन्ड का एक कॉम्बिनेशन है, जिसे केवल प्रोफेशनल फंड मैनेजरों द्वारा मैनेज किया जाता है। आमतौर पर एक फंड मैनेजर एक एसेट मैनेजमेंट कंपनी (AMC) का हिस्सा होता है। इसके दो प्रकार है-

➡️ 1. इक्विटी म्यूचुअल फंड – यह एक कंपनी के शेयरों से मिलकर बनता है। 

➡️ 2. डेट म्यूचुअल फंड – इसमें सरकारी ब्रैंड और सिक्योरिटीज शामिल होते है। 

एक म्यूचुअल फंड विभिन्न कंपनी के शेयर की एक विविध टोकरी है जो मुद्रा बाजार के साधनों में निवेश करती है। जिसमे सहभागी नोट और ट्राजरी बिल शामिल है।  

आसान शब्दों में कहूं तो म्यूचुअल फंड बहुत सारे लोगों के पैसे से बना एक फंड होता है। यहां पर एक फंड मैनेंजर होता है, जो फंड को सुरक्षित तरीके से थोड़ा-थोड़ा करके अलग-अलग जगह पर निवेश करने का काम करता है। म्यूचुअल फंड से आप न सिर्फ शेयर बाजार में बल्कि गोल्ड पर भी निवेश कर सकते हैं।

दोस्तो आशा करता हूं की आप अब जान ही गए होंगे कि शेयर मार्केट और म्यूचुअल फंड क्या होता है। अब चलिए जानते है Share Market और Mutual Fund में अंतर क्या क्या है?

Read Also: शेयर मार्केट से पैसे कैसे कमाए

Share Market और Mutual Fund में अंतर in Hindi

1) डायवर्सिफिकेशन

Share Market – एक बार में केवल एक विशेष शेयर ही खरीद सकते है। 

Mutual Fund – आपके पास एकमुश्त निवेश के साथ एक विविध Portfolio हो सकता है।

2) उद्देश्य

Share Market – इसका उद्देश्य कंपनी की विकास रणनीति का हिस्सा होता है ।

Mutual Fund – यह केवल एक व्यक्ति के लिए निवेश विकल्प है। 

3) निवेश करने पर कंट्रोल 

Share Market – आप शायरों के चुनाव के लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार है। 

Mutual Fund – शेयरों का पूर्व निर्धारित Portfolio होता है, इसमें निवेश पर आपका कोई नियंत्रण नहीं होता है।

4) Fixed investment

Share Market – फिक्स्ड इंवेस्टमेंट का कोई विकल्प नहीं है क्योंकि क्योंकि कीमतों में नियमित रूप से उतार और चढ़ाव होता ही रहता है। 

Mutual Fund – आप एक निश्चित सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) में निवेश कर सकते है

5) फीस और शुल्क

Share Market – इसमें ब्रोकरेज शुल्क और कई प्रकार के अन्य लेन-देन का शुल्क लगता है।

Mutual Fund – आपको फंड मैनेजर चार्ज, फ्रंट – एंड लोड चार्ज और बैंक एंड लोड चार्ज आदि का भुगतान करना होता है। 

6) ग्रोथ ट्राजेक्टरी

Share Market – इसमे तुरंत रिटर्न प्रदान करता है। 

Mutual fund – म्यूचुअल फंड एक लंबी अवधि में ही अच्छा रिटर्न दे सकता है खासकर 5 साल बाद

7) Return

Share Market –  इसमें लंबी अवधि का रिटर्न 14–16% के बीच में हो सकता है। 

Mutual Fund – इसमें आपको 8% का एसेट रिटर्न मिल जाता है। 

8) इन्वेस्टर टाइप 

Share Market – शेयर मार्केट विशेषज्ञता रखने वाले लोग ही आसानी से निवेश कर सकते है। 

Mutual Fund – म्यूचुअल फंड कोई भी निवेश आसानी से कर सकता है। 

9) जोखिम

Share Market – उच्च बाजार अस्थिरता के अधीन है। इसमें जोखिम ज्यादा होता है।

Mutual Fund – इसमें कम जोखिम होता है। 

10) जारीकर्ता 

Share Market – शेयर कंपनियां जारी करती हैं

Mutual Fund – म्यूचुअल फंड यूनिट्स म्यूचुअल फंड हाउस जारी करते हैं

11) जारी करने का उद्देश्य 

Share Market – कंपनी लिस्ट होने के लिए शेयर जारी करती है।

Mutual Fund – यूनिट्स शेयरों में निवेश के लिए जारी करते है। 

12) शेयर कहां से खरीदें 

Share Market –  इसको स्टॉक एक्सचेंजों से खरीदा जा सकता है।

Mutual Fund – इसको फंड हाउस से खरीदा जा सकता है।

13) टैक्स 

Share Market और Mutual Fund दोनों पर शॉर्ट और लॉन्ग टर्म गैन टैक्स लगता है

दोस्तो आशा करता हूं की आप Share Market और Mutual Fund में अंतर को समझ ही गए होगे। अब आप सोच रहे होंगे की Share Market और Mutual Fund में निवेश कैसे करे यानी इनको खरीदे कैसे? तो इसका भी सॉल्यूशन नीचे मौजूद है

Read Also: Best Multibagger Penny Stocks For 2025

Share Market में निवेश कैसे करें?  

Share Market में निवेश करने के लिए सर्वप्रथम अपना एक डीमैट खाता खोल ले। और आपको सुनिश्रित करना होगा की यह खाता लेन- देन के लिए पहले से मौजूद बैंक खाता से जुड़ा हुआ है। अब आपको शेयर मार्केट के APP या Website में जाकर अपना डीमैट एकाउंट ओपन करना है। 

अब आपको एक स्टॉक चन्ना है जिसमे आप निवेश करना चाहते हैं। अब आपको सुनिश्रित करना होगा की स्टॉक को खरीदने के लिए पर्याप्त धन है। अब आपको अपने चुने हुए स्टॉक को इसके सूचीबद्ध मूल्य पर खरीदना होगा। 

अब अगर उस स्टॉक को कोई विक्रेता एक बार इस अनुरोध का प्रतिपादन करता है तो आपका खरीद आदेश निस्पादित हो जाएगा। लेन- देन पूर्ण हो जाने के बाद आपके बैंक खाते से आवश्यक राशि डेबिट हो जायेगी। और इसके साथ ही आपको अपने DEMAT खाते में शेयर प्राप्त होगें। 

आप इसके लि Angle One का इस्तेमाल कर सकते है। ये इंडिया में बहुत ही फेमस है निवेश करने के लिए। साथ ही हमारे रेफरल कोड YA2720ARS का भी उपयोग करे ताकि आपको एक्स्ट्रा बोनस प्राप्त हो सके। जो लोग शेयर बाजार में अपना पैसा निवेश करना चाहते है उनके पास नीचे लिखे डॉक्यूमेंट का होना आवश्यक है –

  • बैंक खाता 
  • पहचान का सबूत
  • पाते का प्रमाण
  • पेन कार्ड
  • रद्द चेक और
  • एक स्टॉकब्रोकर 

Mutual Fund में निवेश कैसे करे

अब म्यूचुअल फंड में निवेश करना तो बेहद आसान और सरल हो गया है, को कोई व्यक्ति अतिरिक्त दस्तावेजों के बिना कई फंड में निवेश करने के बारे में सोच सकता है। म्यूचुअल फंड में निवेश करने के लिए आपको सर्वप्रथम अपना KYC पूरा करना होगा। 

जो की एक बार को प्रकिया है। KYC म्यूचुअल फंड की दुनिया की चाभी है। अपना KYC पूरा करने के बाद आप हर निवेश के लिए आगे सत्यापन से गुजरे बिना किसी भी फंड में निवेश कर सकते है। 

Telegram Group👉 Click Here
WhatsApp Group👉 Click Here
Google News 👉 Click Here

FAQs:

क्या Share Market और Mutual Fund लीगल है?

जी हां दोस्तों! शेयर मार्केट और म्यूचुअल फंड 100% लीगल है।

शेयर मार्केट और म्यूचुअल फंड किसमे अधिक रिटर्न मिलता है?

दोस्तों! यह पूरी तरह से आपके ऊपर निर्भर है की आप किसी शेयर में निवेश करते हो और किस म्यूचुअल फंड में।

Conclusion (Share Market और Mutual Fund में अंतर)

तो दोस्तो! आज की इस लेख में आपने जाना Share Market और Mutual Fund में अंतर के बारे में। मैने इसमें आप लोगो को अच्छे से जानकारी दी है। और आप इन दोनो में अंतर समझ ही गए होगे। आप समझ ही गए होगे की आपको किसमे अपना पैसा इन्वेस्ट करना चाहिए। 

इसलिए मैं कहना चाहूंगा कि आप यदि पैसा शेयर मार्केट में लाभ कमाने के उद्देश्य से करते हैं तो आप कभी भी directly शेयर मार्केट में अपने पैसे को न लगाए। आपको mutual fund के जरिये ही share market में invest करें ताकि आपका पूँजी डूबने के उम्मीद न के बराबर हो। 

आप बिना किसी चिंता फिकर के लाभ कमा सके। आखिर में कहना चाहूंगा की आपको शेयर मार्केट और म्यूचुअल फंड में कोई डाउट हो तो हमे Comment के माध्यम से जरूर बताए ग। हम उसकी रिप्लाई करने की पूरी कोशिश करेगे। 

साथ हीं इस लेख को अपने दोस्तो और अपने सभी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर शेयर करना ना भूले। ताकि अन्य लोगो को भी  Share Market और Mutual Fund में अंतर के बारे में पता चल सके।

धन्यवाद!

हमेशा सीखते रहिए ❤️

Read Related Articles:

5/5 - (1 vote)

About The Author

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top